Dr. Hundraj Balwani

डॉ हूंदराज बलवानी वैसे तो सभी विधाओं में लिखते हैं किंतु बाल साहित्य में उनकी विशेष रूचि रही है। आप हिंदी, सिंधी ,गुजराती तीनों ही भाषाओं में लिखते हैं। बाल साहित्य में सिंधी में पीएचडी करने वाले एकमात्र साहित्यकार हैं। तीनों भाषाओं में प्रकाशित पुस्तकों की संख्या 200 से अधिक है। इनमें अनुवाद संकलन भी शामिल हैं। कुछ पुस्तकें मराठी, अंग्रेजीपंजाबी, उर्दू, तमिल, राजस्थानी ,मैथिली भाषाओं में भी अनुदित हैं ।राष्ट्रीय एवं प्रांतीय स्तर पर कई पुरस्कार सम्मान प्राप्त हुए हैं ।विशेष है गुजरात सरकार का साहित्य गौरव पुरस्कार गुजरात राज्य शाला पाठ्य पुस्तक मंडल से सेवानिवृत्त हैं। गुजरात सिंधी साहित्य अकादमी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं।